मंगलवार, 28 मई 2013

यादों का हरश्रींगार झड़े


यादों का हरश्रींगार झड़े



यादों का हरश्रींगार झड़े झड़-झड़.....   
उम्र गुजरती जाये,मन पीछे गोता खाये।
आंखो के आगे बचपन लौट लौट सी आए।
नानी का घर सपन खिलौने अपने लगते
दादा दादी मामा मामी याद आ गए सारे रिश्ते
रिश्ते-नाते गर्मी छुट्टी आम बगीचा
कूद-फांद और धमा चौकड़ी सारे बच्चे

यादों का हरश्रींगार झड़े झड़-झड़....।
गुड्डे गुड़िया खेल खिलौने पदना लिखना
संग सहेली गाने गाना  हँसना  रोना
चुगली-शुगली शोर मचाना  हल्ला गुल्ला
लड़ना झगड़ना रूठा रूठी हाथ मिलाना।

यादों का हरश्रींगार झड़े झड़-झड़....।
चाचा जी की चिट्ठी आयी,डाक्टर बन कर नाम कमाओ
इस महान पेशा को अपनाना है
बस डाक्टर ही तुम को बनना है।
अब तो केवल बहुत पढ़ाई ,खूब पढ़ाई
 कुछ बनना है काम तो मुझको  करना है।

. यादों का हरश्रींगार झड़े झड़-झड़....।
कंधे मेरे दुखते हैं,बोझ है तू उतर भी जा.. ।
माँ मुझको पढ़ने दो न,थोड़ा सा कुछ बनने दो न।
शादी करके पढ़ती रहना,काम तू अपनी करती रहना।
शादी करले मैं पढ़ाऊँगी,मेरा तुझसे पक्का वादा।
  
यादों का हरश्रींगार झड़े झड़-झड़....।
वादा टूटा वादा झूठा, मेरा खुद का सपना टूटा।
घर गृहस्थी नून तेल लकड़ी,पिसती रह गयी ,
वक़्त है गुजरा,समय है बदला,बुड्डी हो गयी
टूटे सपने जोड़ न पायी,आगे मै फिर पढ़ न पायी।
 यादों का हरश्रींगार झड़े झड़-झड़....।  .

.
    


19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर ..यादें और हरसिंगार

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत यादों की पोटली खोलती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक व्यथा जो मेरा पीछा ही नहीं छोड़ती ........

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (09-06-2013) के चर्चा मंच पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. बचपन की यादों को भुलाए नहीं भूलती

    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: प्रेम- पहेली
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर..हम बीता वक्‍त कभी नहीं भूल पाते

    उत्तर देंहटाएं
  7. यादें कब पीछा छोडती है.

    सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यादें यदि एक अपूर्णीय क्षति हो,तो कभी नहीं पीछा छोड़ती. धन्यवाद रचना जी,मेरे हर्श्रिंगार चुनने के लिए.

      हटाएं
  8. sapne kabhi apne hote kaha hain ....jodo to bhi nahi judte,khuli aankho se bharmate.....bhavpurn rachna.....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद जी,मेरे सूखे हरश्रिंगार के फूल चुनने के लिए

      हटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. यादों को गुंथकर बनी बहुत सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर ..यादें और हरसिंगार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद संजय भास्कर जी....यादों के हर्श्रिंगर चुनने के लिए.

      हटाएं